न्यूज़

PIB Fact Check: क्या सरकार कर रही है, पाँच लाख मुफ्त लैपटॉप बाटने की तैयारी, जाने क्या है पूरा सच

PIB Fact Check: केंद्र व राज्य सरकार द्वारा बच्चों को डिजिटल माध्यम से शिक्षा में बढ़ावा देने के लिए कई तरह की योजनाओं की शुरुआत की जाती है, जिसमे छात्रों को ऑनलाइन माध्यम से शिक्षा पूरी करने के लिए लैपटॉप व टेबलेट वित्तरण भी किए जाते हैं। इस बीच इन दिनों सोशल मीडिया पर एक मैसेज काफी तेजी से वायरल किया जा रहा है, जिसमे यह दावा किया जा रहा है की शिक्षा विभाग देश के सभी परिवारों के बच्चों को डिजिटल लर्निंग के लिए लैपटॉप वित्तरण कर रहा है, जिसके लिए विभाग ने छात्रों के बीच पाँच लाख मुफ्त लैपटॉप वित्तरण करने की तैयारी कर ली है।

क्या सरकार कर रही है, 5 लाख मुफ्त लैपटॉप वित्तरण

इन दिनों सोशल मीडिया पर कई तरह के ऑफर्स या स्कीम्स से संबंधित लिंक्स भेजे जाते हैं, जिनमे से कुछ फेक लिंक्स स्कैमर्स द्वारा आम जनता को भेजकर उनसे धोखाधड़ी की जाती है। ऐसा ही एक मैसेज का लिंक सोशल मीडिया पर लोगों को तेजी से वायरल किया जा रहा है, जिसमे सरकार के शिक्षा विभाग की और से सभी छात्रों को पाँच लाख मुफ्त लैपटॉप बाटने की बात कही जा रही है। इससे छात्रों को ऑनलाइन शिक्षा में आसानी होगी और डिजिटल लर्निंग को बढ़ावा मिल सकेगा, इस खबर और इसके माध्यम से भेजे जा रहे लिंक को पीआईबी ने फैक्ट चेक के माध्यम से पूरी तरह फेक बताया है।

EPFO Latest News: प्रत्येक EPFO सब्सक्राइबर के पीएफ अकॉउंट में छिपी है ये खास जानकारी, ऐसे करें डिकोड

पीआईबी ने ट्वीट कर दी जानकारी

बता दें पीआईबी (पब्लिक इन्फॉर्मेशन ब्यूरो) फैक्ट चेक ने ऑनलाइन सोशल मीडिया पर वायरल इस खबर की पूरी जाँच करने के बाद अपने ट्वीटर हैंडल में पोस्ट कर इस संदेश के साथ एक लिंक शेयर करके बताया है की आप इस लिंक पर जाकर सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, यह स्कीम पूरी तरह से फेक है। पीआईबी का कहना है की सरकार ऐसी कोई स्कीम नहीं चला रही है, जिसके लिए आप ऐसे किसी भी तरह के संदेश से दूर रहे और मैसेज में दिए गए लिंक पर क्लिक ना करें इससे आप धोखाधड़ी का शिकार हो सकते हैं।

PIB ने आम जनता से की ये अपील

सोशल मीडिया पर इन दिनों बहुत से फेक लिंक्स के माध्यम से लोगों को तरह तरह के ऑफर देकर उन्हें धोखाधड़ी का शिकार बनाया जाता है। जिसे देखते हुए पीआईबी ने सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस मैसेज को लेकर आम जनता से अपील की है की इस तरह के संदेशों को आगे ना बढ़ाएँ क्योकि यह मैसेज लोगों में भ्रम फैलाने का काम करते हैं और कई बार लोग इन्हे सच मानकर इस मैसेज के लिंक पर क्लिक कर अपनी आवश्यक जानकारी सांझा कर देते हैं जिससे वह फ्रॉड का शिकार हो जाते हैं, बता दें पीआईबी ने इस वायरल मैसेज की तरह ही पीएम बेरजगारी योजना और पीएम मुद्रा योजना के नाम पर भेजे जा रहे लिंक का भी पर्दाफाश किया है और लोगों को बिना जाँच के ऐसे किसी भी लिंक्स पर भरोसा न करने को कहा है।

सम्बंधित खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
विधवा पेंशन योजना 2022: Vidhwa Pension ऑनलाइन आवेदन New CDS of India Anil Chauhan: जानिए कौन हैं अनिल चौहान