साइबर क्राइम क्या है? इसके प्रकार एवं बचाव के उपाय, जानें यहाँ विस्तार से !

साइबर क्राइम को हैकर्स या साइबर अपराधियों के समूहों द्वारा अंजाम दिया जाता है। जिसका उद्देश्य मुख्य रूप से वित्तीय लाभ प्राप्त करना होता है। इसके अलावा किसी आपसी खास वजह से भी साइबर क्राइम को अंजाम दिया जाता है।

Photo of author

Reported by Sheetal

Published on

वर्तमान समय में इंटरनेट का उपयोग हम सभी करते है। इंटरनेट की सहायता से हम घर बैठे बहुत से कार्यो को पूरा कर लेते है। जैसे चाहे हमे शॉपिंग करनी हो, खाना आर्डर करना हो, बिल का भुगतान करना हो आदि। आपने कभी न कभी साइबर क्राइम से सम्बंधित खबरे जरूर सुनी होगी। इंटरनेट के सभी उपभोग्ताओ को Cyber Crime की जानकारी होनी बहुत आवश्यक है। साइबर क्राइम सभी जानकारी प्राप्त करने के बाद आप इंटरनेट का उपयोग सुरक्षित तरीके से कर सकते है। अब हम आपको बतायेगे साइबर क्राइम क्या है ? इसके प्रकार क्या है और इसके बचाव के उपाय क्या है

यह भी देखे :- जानें AI के गलत इस्तेमाल तो कितने साल की जेल होगी?

Table of Contents

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

साइबर क्राइम क्या है?

Cyber Crime वह अपराध है जिसमे पेशेवर अपराधी (सामान्यत-हैकर) द्वारा सामान्यत ऑनलाइन माध्यम से आपके डिवाइस (लैपटॉप। कंप्यूटर, मोबाइल) या नेटवर्क से जुड़े डिवाइस पर अनधिकृत तरीके से अधिकार करके विभिन्न अपराधों को अंजाम देता है। सीबीर क्राइम के अंतर्गत विभिन्न अपराधों की श्रंखला आती है जिसमे ऑनलाइन ठगी, प्राइवेसी लीक, हैकिंग, साइबरबुलिंग आदि प्रकार के अपराधों को अंजाम दिया जाता है।

साइबर क्राइम को हैकर्स या साइबर अपराधियों के समूहों द्वारा अंजाम दिया जाता है। जिसका उद्देश्य मुख्य रूप से वित्तीय लाभ प्राप्त करना होता है। इसके अलावा किसी आपसी खास वजह से भी साइबर क्राइम को अंजाम दिया जाता है। आसान शब्दों में कहे तो साइबर क्राइम में ऑनलाइन माध्यम से लोगो के साथ अपराध होता है। वर्तमान समय में ऑनलाइन ठगी करना साइबर क्राइम का सामान्य रूप है।

साइबर क्राइम के प्रकार

साइबर क्राइम ऑनलाइन अपराधों का एक समूह है। जहाँ विभिन्न प्रकार से इंटरनेट यूजर को हानि पहुचायी जाती है। यहाँ हम आपको Cyber Crime के कुछ प्रकार के बारे में बता रहे है।

  • हैकिंग एवं अनधिकृत प्रवेश

हैकिंग एवं अनधिकृत प्रवेश साइबर क्राइम की दुनिया में सबसे आम Cyber Crime है। किसी भी व्यक्ति के कंप्यूटर सिस्टम, लैपटॉप, मोबाइल या नेटवक में बिना उस व्यक्ति की अनुमति के प्रवेश करने को ही हैकिंग या अनधिकृत प्रवेश कहा जाता है। हैकिंग के माध्यम से हैकर दूसरे व्यक्ति का महत्वपूर्ण डाटा चुरा लेता है। यह एक गैरकानूनी प्रक्रिया है जिसमे हैकर किसी व्यक्ति की निजी जानकारियों में बिना उसकी अनुमति के घुस जाता है।

संबंधित खबर PIB Fact Check under PM Mudra Yojana get a loan of 10 crores on paying processing fee of Rs 4500

PIB Fact Check: क्या PM Mudra Yojana के तहत 4500 रूपये प्रोसेसिंग फीस देने पर मिलेगा 10 करोड़ का लोन, जाने ये है सच्चाई

  • साइबर स्टॉकिंग

साइबर स्टॉकिंग मुख्य रूप से फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर आदि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर देखने को मिलती है। साइबर स्टाकिंग में अपराधी ऐसे लोगो को परेशान करते है जो उम्र में छोटे या टीनटीनएजर्स होते है। उनके साथ वे अभद्र प्रकार की चैट करते है उन्हें गलत फोटोज भेजते है। ऐसे में छोटे बच्चो में ज्यादा समझदारी नहीं होती कि वे इसको किस प्रकार हैंडल करे। वो अपराधी बार बार अलग अलग अकाउंट ने उनको परेशान और ब्लैकमेल करता है। आज के समय में ऐसी गतिविधिया आम हो गयी है लेकिन ऐसी गितिविधियों के खिलाफ पीड़ित व्यक्ति रिपोर्ट करवा सकता है जिसके लिए तुरंत एक्शन भी लिया जायेगा।

  • वायरस सॉफ्टवेयर

कुछ सॉफ्टवेयर और नेटवर्क ऐसे होते है जिनके फीचर्स बहुत आकर्षक होते है लेकिन यदि आप उनके अपने डिवाइस में डाउनलोड करते हो तो उसके जरिये आपके डिवाइस को हैक कर लिया जाता है। ऐसे में वे आपके डिवाइस की पूरी जनकारी प्राप्त कर लेते है और आपके डिवाइस एक एक्सेस भी उन्ही को मिल जाता है।

  • साइबर स्पाइंग

साइबर स्पाइंग के अंतर्गत कुछ ऐसे बड़े शोरूम, होते आते है जिनके बेडरूम, चेंजिंग रूम में छोटे छोटे कैमरे लगे होते है। ऐसे में वे अपने कस्टमर्स की कुछ अश्लील तस्वीरें और वीडियो रिकॉर्ड कर लेते है जो वहा आते है। काफी बार ऐसा होता है की अपराधी लोगो को उनकी गन्दी पिक्चर दिखा कर ब्लैकमेल करता है। यह क्राइम साइबर क्राइम का एक दंडनीय अपराध है।

  • सोशल मीडिया से फोटो चुराना

साइबर क्राइम के अंतर्गत अपराधी कुछ लड़कियों या बच्चो की सोशल मीडिया से तस्वीरें चुरा लेता है और उनको ब्लैक मेल करता है। उनकी इमेज को एडिटिंग के जरिये थोड़ा चेंज करके उनको परेशान करता है। कभी तो उनकी फोटो चुरा कर फेक आईडी बना कर उसपर यूज़ करता है। इस प्रकार के अपराध का शिकार बहुत से बच्चो, लड़किया और महिलाये होती है। आप इस प्रकार के अपराध के खिलाफ रिपोर्ट कर सकते हो।

  • साइबर बुल्लिंग

इस प्रकार में क्राइम में विभिन्न प्रकार के मामले देखने को मिलते है। जिनमे अपराधी लड़के लड़कियों को सोशल मीडिया पर अपने प्यार के जाल में फसाते है और धीरे धीरे मेल जोल बढ़ाने के बाद लड़की को शारीरिक सम्बन्ध बनाने के लिए फाॅर्स करते है। ऐसे में अगर लड़की राजी हो जाती है तो अपराधी उस समय उसकी अश्लील तस्वीरें ले लेता है और वीडियो बना लेता है जिसके जरिये वो लड़की को बार बार ब्लैकमेल करता है और उसपर अपनी मनमानी चलाता है। यदि वे ऐसी नहीं करती है तो उनकी तस्वीरो को सोशल मीडिया पर अपलोड करने की धमकी देता है ऐसे में कुछ लड़किया अपने आप को नुक्सान भी पंहुचा लेती है लेकिन यह एक दण्डनीय अपराध है जिसके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई जा सकती है और ऐसे केस पर जल्द से जल्द एक्शन लिया जाता है।

साइबर क्राइम से बचाव के उपाय

  • बहुत से फ्री में मिलने वाईफाई ऐसे होते है जिनको कनेक्ट करते ही हमारे फ़ोन का डाटा चुरा लिया जाता है इसलिए अज्ञात नेटवर्क कनेक्ट करने से बचना चाहिए।
  • सदैव अपनी निजी जानकारियों से समबन्धित एप्लीकेशन में मजबूत पासवर्ड लगाना चाहिए।
  • आपको अपने पासवर्ड्स समय समय पर बदलते रहना चाहिए ताकि कोई भी उनको क्रैक न कर सके।
  • अपने ऑपरेटिंग सिस्टम और इंटरनेट के सॉफ्टवेयर को अपडेट रखे।
  • अपने सोशल मीडिया अकाउंट की जानकारी केवल उन्ही को दे जो अधिक विश्वसनीय है।
  • अपनी निजी कार्यो को सोशल मीडिया पर ज्यादा शेयर ना करे।

संबंधित खबर realme-11-series-5g-launched-in-india (1)

रियलमी 11 सीरीज 5G भारत में लॉन्च, फ़ोन में 5000mAh बैटरी, 108MP कैमरे जैसे फीचर्स

Leave a Comment

WhatsApp Subscribe Button व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp