Chhath Puja 2024: इस दिन से होगी छठ महापर्व की शुरुआत, जानें अर्घ्य देने का सही मुहूर्त विधि

छठ पूजा के व्रत में सभी माताएं छठी मय्या की उपासना करती है और अपने संतान के सुखी जीवन की कामना के लिए बिना कुछ खाए और बिना कुछ पिए 36 घंटे तक निर्जाला व्रत रखती हैं

Photo of author

Reported by Sheetal

Published on

 हिन्दू धर्म में छठ पूजा को महापर्व का दर्जा दिया गया है। छठ का पर्व सबसे ज्यादा बिहार, झारखंड, बंगाल और यूपी में मनाया जाता है इस छठ पूजा का पर्व 4 दिन दिन तक चलता है जिसमें सभी माताएं अपनी संतान के लिए व्रत करती है यह व्रत कार्तिक मास के शुक्‍ल पक्ष की षष्‍ठी तिथि को रखा जाता है जानें किस दिन होगी छठ की शुरुआत और अर्घ्य देने का सही मुहूर्त विधि।

भारत देश के प्रमुख त्योहारों में से छठ पूजा एक महापर्व है छठ पूजा का पर्व सबसे अधिक बिहार राज्य में रहने वाले लोगों द्वारा मनाया जाता है। लेकिन अब उत्‍तर प्रदेश के कुछ हिस्‍से में भी छठ पूजा पर्व काफी धूम धाम से मनाया जा रहा है साल 2024 में छठ पूजा पर्व 12 अप्रैल से शुरू होगा और 15 अप्रैल को समाप्‍त हो जाएगी।

Table of Contents

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

छठ पूजा करने की विधि

  • छठ पूजा के व्रत में पूजा से दो दिन पहले यानि चतुर्थी के दिन स्नान करने के बाद भोजन किया जाता है।
  • छठ पूजा के दौरान पंचमी के दिन व्रत रखने के बाद संध्या के समय नदी में स्नान करने के बाद सूर्य को अर्घ दिया जाता है।
  •  सूर्य को अर्घ देने के बाद व्रत को पूर्ण किया जाता है।
  • छठ पूजा के व्रत के दिन बिना पानी पिए,बिना कुछ खाए और सुबह स्नान करने के बाद सूर्य को अर्घ दिया जाता है।

छठ पूजा महत्व

छठ पूजा के व्रत में सभी माताएं छठी मय्या की उपासना करती है और अपने संतान के सुखी जीवन की कामना के लिए बिना कुछ खाए और बिना कुछ पिए 36 घंटे तक निर्जाला व्रत रखती हैं निर्जला व्रत रखकर नियमों का पालन पूजा के विधि विधानों का पालन करती है। तथा पूरी आराधना के साथ भगवान सूर्य देव को अर्घ देती है। छठ पूजा व्रत संतान के लिए रखा जाता है यह व्रत विधि पूर्ण करना बेहद कठिन होता है कहते है कि छठ पूजा का व्रत करने से संतान सुख मिलता है।

अर्घ्य देने का सही दिन और वार

  • 12 अप्रैल, शुक्रवार को नहाय-खाय
  • 13 अप्रैल, शनिवार को खरना
  • 14 अप्रैल, रविवार को संध्या अर्घ
  • 15 अप्रैल, सोमवार को प्रात: अर्घ व पारण

छठ पूजा में पूजा के तीसरे दिन डूबते सूर्य को अर्घ्‍य दिया जाता है। इस वर्ष संध्‍या अर्घ्‍य रविवार, 19 नंवबर 2023 को दिया जाएगा। छठ पूजा के चौथे और आखिरी दिन उगते हुए सूर्य को अर्घ्‍य दिया जाता है। इस बार 20 नंवबर 2023, को सोमवार के दिन उगते हुए सूर्य को अर्घ्‍य दिया जाएगा।

संबंधित खबर shubh-muhurat-pujan-vidhi-for-raksha-bandhan-2023

Raksha Bandhan 2024: इस बार के रक्षा बंधन का शुभ मुहूर्त, राखी बाँधने का सही समय और भद्रा काल को जाने

इस वर्ष छठ पूजा की शुरुआत 19 नवंबर, 2023 को होगी और सूर्यास्त का समय करीबन शाम 5 बजकर 26 मिनट पर होगा। और पूजा की समाप्ति 20 नवंबर, 2023 को होगी जिसमें सूर्योदय का शुभ मुहूर्त सुबह के समय 06 बजकर 47 मिनट तक होगा।

छठ पूजा में क्या प्रसाद बनाया जाता है?

छठ पूजा में वैसे तो अलग-अलग तरीका का प्रसाद चढ़ाया जाता है लेकिन इस पूजा के व्रत में सबसे अधिक महत्व ठेकुआ के प्रसाद को दिया जाता है। जो गुड़ और आटे की सामग्री से बनाया जाता है इस प्रसाद के बिन छठ पूजा का व्रत अधूरा माना जाता है।

ये ख़बरें भी देखें –

संबंधित खबर हिंदू कैलेंडर 2024 में आने वाले व्रत और त्यौहार की सूची देखें और पीडीएफ डाउनलोड करें

हिंदू कैलेंडर 2024 में आने वाले व्रत और त्यौहार की सूची देखें और पीडीएफ डाउनलोड करें

Leave a Comment

WhatsApp Subscribe Button व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp