न्यूज़

World Richest Man List: अडानी बने दुनिया के तीसरे सबसे अमीर आदमी, इतनी दौलत के हुए मालिक

World Richest Man List 2022: दुनिया के शीर्ष अमीर व्यक्तियों की सूची उनके नवीनतम निवल मूल्य और आर्थिक प्रदर्शन के अनुसार हर साल अलग हो सकती है। इस लेख में 30 अगस्त के वर्तमान के ब्लूमबर्ग मिलिनियर के सूचकांक और उनका मुख्य परिचय देने का प्रयास किया जा रहा है। नई इंडेक्स के अनुसार अडानी ग्रुप के अध्यक्ष गौतम अडानी ने फ्रांस के बर्नाड अर्नोल्ट को पीछे करते हुए तीसरा स्थान पा लिया है।

इस समय गौतम अडानी की कुल संपत्ति 137.4 बिलियन अमेरिकी डॉलर है। इस आंकड़े के अनुसार 60 वर्षीय अडानी ने लुई वुडटन के अध्यक्ष अरनॉल्ट की सम्पत्ति को पीछे किया है। इस समय सूची में एलोन मस्क और जेफ़ बेजोस ही उनसे आगे है।

यह इंडेक्स दुनिया के सबसे धनी व्यक्तियों की दैनिक रैंकिंग है। इस सूची के आंकड़े को हर कारोबारी दिन के अंत में अपडेट किया जाता है। इस सूची के अनुसार एलोन मस्क की वर्तमान सम्पत्ति 251 बिलियन डॉलर और जेफ़ बेजोस की सपत्ति 153 बिलियन डॉलर है।

व्यवसायी गौतम का कैरियर

गौतम को मात्र 16 वर्ष की आयु में ही व्यावसायिक कार्यों के लिए मुंबई जाना पड़ गया था। साल 1978 में मंबई में हीरों का व्यवसाय करने लगे। लेकिन उन्होंने गुजरात लौटकर प्लास्टिक फैक्ट्री में कार्य किया। साल 1991 में आर्थिक सुधारों के कारण वह मल्टीनेशनल बिज़नेसमेन बन गए। साल 1995 गौतम के लिए सबसे सफल बिज़नेस ईयर रहा है।

यह भी पढ़ें :- बिग-ब्रेकिंग: अडानी ने ख़रीदा NDTV, रवीश कुमार का NDTV से इस्तीफे की खबर

अडानी ग्रुप की व्यावसायिक स्थिति

अडानी प्रथम पीढ़ी के उद्योगपति है और अडानी ग्रुप में 7 सार्वजानिक रूप की संस्थाएँ सम्मिलित है। इनमे ऊर्जा, बंदरगाह और रसद, खनन एवं संसाधन, गैस, हवाईअड्डे और ऐरोस्पेस सूचीबद्ध है। इनके ग्रुप ने भारत के प्रत्येक व्यावसायिक क्षेत्र में अपने नेतृत्व की स्थिति बनाई है।

अडानी इंटरप्राइजेज ने पिछले पाँच सालों में नवीन विकास क्षेत्रों में बहुत निवेश किया है। इसमें हवाई अड्डे, सीमेंट, कॉपर संशोधन, डेटा केंद्र, ग्रीन हाइड्रोजन, सड़क और सेल निर्माण आदि है। इस प्रकार से नए व्यवसाय करते रहने से ही अडानी ग्रुप अपनी स्थिति को समय से साथ सुधारता रहा है।

  • साल 2021 में अडानी दुनिया के चौथे सबसे धनी व्यक्ति बन गए थे।
  • गौतम अडानी एक गुजराती व्यवसायी है।

अडानी ग्रुप की सार्वजानिक गतिविधियाँ

अडानी समुदाय के लिए कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मदारी की तरह है। ग्रुप ने अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए स्वास्थ्य, शिक्षा और कौशल विकास के कार्यों में निवेश किया। इस प्रकार की धर्मार्थ गतिविधियों में 60 हजार करोड़ रुपयों के योगदान का निर्णय लिया है। अडानी ने जुलाई के अंत में समूह की वार्षिक आम बैठक में ग्रामीण भारत पर विशेष ध्यान देने की बात को शेयरधारकों से साझा की थी।

समुदाय के भविष्य की योजना

ग्रुप आगे के लिए दूरसंचार के क्षेत्र में व्यवसाय करने की योजना बना रहा है। इसके अतिरिक्त ग्रुप ने ग्रीन हइड्रोजन और हवाई अड्डों के व्यवसाय को विकसित करने की बड़ी योजना बना रखी है। पिछले कुछ दिनों में ही ग्रुप ने ओडिशा में एक 4.1 एमटीपीए इन्टेग्रीटेड एलुमिना संशोधन और 30 एमटीपीए लोहे अयस्क बेनीफिकेशन सयंत्र की स्थापना की घोषणा भी कर दी है। इसकी लागत लगभग 580 अरब रुपयों से अधिक होने की सम्भावना है।

सम्बंधित खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button