मूवीजएंटरटेनमेंट

Liger: ‘लाइगर’ का इन कारणों से हो रहा बायकॉट, बायकॉट ग्रुप ने ऐसा किया विजय देवरकोंडा का हश्र

Liger Movie: भारतीय फिल्म जगत की कुछ फिल्मो के बहिष्कारों का चलन आम सी बात हो गयी है। हर दिन कोई न कोई अभिनेता सोशल मिडिया पर पर ट्रोलिंग या किसी फिल्म के बहिष्कार का निशाना बन रहा है। पिछले दिनों आमिर की ‘लाल सिंह चड्डा’, अक्षय कुमार की ‘रक्षाबंधन’ और रणबीर की ‘शमशेरा’ का कड़ा बहिष्कार हुआ है। इसी क्रम में विजय देवरकोंडा (Vijay Deverakonda) की फिल्म ‘लाइगर’ (Liger) का नाम भी सुर्ख़ियों में है। यदि बात करें बहिष्कार के कारण की तो ख़बरों के अनुसार इस अभिनेता के हालिया बयान और विभिन्न वजहों से फिल्म ‘लाइगर’ निशाने पर है।

किन्तु देवरकोंडा और अनन्या पांडे (Ananya Panday) की ‘लाइगर’ की एडवांस बुकिंग के आंकड़े कुछ और तस्वीर पेश कर रहे है। तेलगु फिल्मो के अभिनेता विजय डेवेरकोंडा ‘लाइगर’ फिल्म के माध्यम से हिंदी सीने जगत में डेब्यू कर रहे है। इस फिल्म की सफलता को सुनिश्चित करने के लिए वह अभिनेत्री अनन्या पांडे के साथ मिलकर प्रमोशन कर रहे है। इस काम के लिए वह कई शहरों में जाकर विभिन्न मंचों और प्रोग्राम्स में इंटरव्यू दे रहे है। परन्तु इसी बीच उन्होंने कुछ ऐसी बाते कह दी कि ट्रोलर्स को फिल्म (Liger) का बहिष्कार शुरू कर दिया।

यह भी पढ़ें:- दीपिका पादुकोण को क्यों ले जाया गया अस्पताल? ‘प्रोजेक्ट के’ के निर्माता ने किया खुलासा

बॉयकॉट लाइगर ट्रैंड ट्विटर के कारण

अपने हालिया बयानों में फिल्म के अभिनेता ने अमीर खान की फिल्म के बायकॉट की चर्चा कर दी। देवरकोंडा ने कहा – जब आप एक फिल्म बॉयकॉट करते है तो दो से तीन हज़ार लोगों का खाना छीन रहे होते है। फिल्म लाल सिंह चड्डा ने कई हजार लोगों ने काम किया। बॉयकॉट से उनकी रोजी रोटी प्रभावित होती है।

बस इन सभी बातों ने फिल्म की उम्मीदों को धक्का पहुंचा दिया चूँकि लोग उनकी निशाना साधने लगे है।

‘कॉफी विद करण’ में बयान भी वजह

करण जौहर के शो में विजय ने कहा की उन्हें नहीं मालूम कि बॉयकॉट ट्रैंड को इतना वजन क्यों दिया जा रहा है। कौन बहिष्कार करेगा, करना है करने दो, क्या उखाड़ लेंगे हमारा। अगर आप फ़िल्म देखना चाहते है तो इसे न देखें। इन्ही बयानों को बहुत से यूजर्स शेयर करते हुए ‘बॉयकॉट लाइगर’ की बात कर रहे है। reasons boycott of liger - coffee with karan show

प्रतिक्रिया – अब तो बहुत है, तो मैं क्यों डरूं?

विजय ने अपने पुराने दिनों को याद करते हुए अपने संघर्ष की कहानी को साझा करवाया। उनके अनुसार वे हमेशा से ही लड़ते रहे है कभी करियर के लिए, कभी पैसों के लिए तो सभी सम्मान के लिए। वह हमेशा से ही यह लड़ाई लड़ते रहे है। एक वक्त था जब उनके पास कुछ नहीं था। अपनी माँ और लोगों का आशीर्वाद मेरे पास है, देखते है कौन रुकेगा। अब तो बहुत है, तो मैं क्यों डरूं?

सम्बंधित खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
विधवा पेंशन योजना 2022: Vidhwa Pension ऑनलाइन आवेदन New CDS of India Anil Chauhan: जानिए कौन हैं अनिल चौहान