न्यूज़

Explainer: संकट बड़ा, जेट एयरवेज और किंगफिशर के बाद अब स्पाइसजेट के लिए खतरे की घंटी?

एक समय एयरलाइन सेक्टर में तेज़ी से कामयाबी पाने वाली विमानन कंपनी स्पाइसजेट (SpiceJet) पिछले कुछ महीनों से नयी-नयी परेशानियों में पड़ती जा रही है। इस समय कम्पनी को तिमाही दर तिमाही नुकसान हो रहा है। भविष्य में स्पाइसजेट कंपनी के सामने कैसी चुनौतियाँ आने वाली है, यह देखते है। व्यापारिक जगत में एयरलाइन इंडस्ट्री को बिज़नेस के लिए बहुत कठिन एवं चुनौतीभरा माना जाता है।

tस्पाइसजेट
जेट एयरवेज और किंगफिशर के बाद अब स्पाइसजेट के लिए खतरे की घंटी?

इसके ऑपरेशन का अधिक खर्चा, बड़ी कैपिटल की माँग जैसे कई चैलेंज इस व्यापार को बहुत जोखिमपूर्ण बना देते है। इसी कारण के एयरलाइन इंडस्ट्री (Airline Industry) का इतिहास कंपनियों की असफलता से भरा पड़ा है। पिछले कुछ सालो में सभी ने एयरवेज़ और किंगफिशर को बर्बाद होते देखा है। अब इस लिस्ट में विमानन कंपनी एयरलाइन कंपनी स्पाइसजेट का नाम आने का खतरा है। अब जानते है कि इस विमानन कंपनी के सामने किस प्रकार की चुनौतियाँ है।

बिना सैलरी के छुट्टी पर पायलट को भेजना

स्पायसजेट की परेशानियों में सबसे नयी परेशानी पायलटो के साथ है। कंपनी अपने करीब 80 पायलटों को बिना सैलरी के लीव पर भेज रही है। इनमे से लगभग 40 पायलट बोईंग 737 (Boeing 737) बेड़े के है। और बाकी बचे लगभग 40 पायलट क्यू400 (Q400) बेड़े से है। लेकिन इस बात को लेकर कंपनी का पक्ष है कि उसके यहाँ पर जररत से ज्यादा पायलट हो चुके है। यही कारण है कि कंपनी कुछ पायलटों को छुट्टी पर भेज रही है।

लेकिन इंडस्ट्री के विषेशज्ञों का मानना है कि कंपनी इस प्रकार का कदम अपने आर्थिक संकट के कारण उठा रही है। कंपनी को डेली की आवश्यकताओं को भी पूरा कर पाने में काफी समस्या आ रही है। हाल के दिनों में कंपनी ने बहुत सी डोमेस्टिक उडाने कैंसिल कर दी है। कंपनी ने जिन पायलटो को बिना वेतन के लीव पर भेजा है उनमे से अधिकतर डोमेस्टिक फ्लाइट से है।

आधे से अधिक विमान उड़ानों से बाहर

कंपनी का कहना है कि छुट्टी पर भेजे गए पायलटों को धीरे-धीरे करके नए विमानों में शिफ्ट किया जायेगा। कंपनी ने अपने बेड़े में 7 नए बोईंग 737 मैक्स विमान जोड़ने की योजना बना रखी है। दिसंबर तक इन विमानों को बेड़े में जोड़ लिया जायेगा। साल 2021 के शुरू के महीनो में कंपनी के पास करीब 95 विमान थे जिनकी संख्या कम होकर 50 ही रह गयी है। कंपनी कल-पुर्जो की कमी एवं मेंटीनेंस की समस्या के कारण बहुत से विमानों को खड़ा ही रखना पड़ा है।

कंपनी को लगभग 10 क्यू400 एयरक्राफ्ट कल-पुर्जो की तंगी के कारण उड़ान ना भर सके। स्पाइसजेट ने अपने बेड़े में एयरवेज के पुराने 737 विमान को शामिल करने के बाद वापिस कर दिया है।

खराब आर्थिक स्थिति और नयी समस्याए

कंपनी के सामने गंभीर आर्थिक समस्याएँ है और इस संकट से निकलने के लिए पूँजी की जरुरत है। पिछले तीन सालों से कंपनी मुश्किलों में है यद्यपि बीते कुछ महीनो से उसकी समस्याएं गंभीर रूप ले चुकी है। कंपनी को दो भीषण हादसों के बाद मार्च 2019 में बोईंग 737 मैक्स विमानों के परिचालन से हटाया गया था। ये एयरक्राफ्ट ईंधन की लागत के हिसाब से कम खर्चीले थे। लेकिन इनके हटने पर स्पाइसजेट की लागत में वृद्धि हो चुकी है।

सम्बंधित खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
विधवा पेंशन योजना 2022: Vidhwa Pension ऑनलाइन आवेदन New CDS of India Anil Chauhan: जानिए कौन हैं अनिल चौहान