एजुकेशन

NEET PG 2022 Counselling Postponed: NEET PG 2022 की काउंसलिंग स्थगित, जानें आगे क्या होगा

नीट पीजी काउन्सलिंग (NEET PG 2022 Counselling) से सम्बंधित उम्मीदवारों के लिए एक बड़ी खबर आ रही है। मेडिकल काउन्सलिंग कमिटी (MCC) ने 1 सितम्बर से होने वाली काउन्सलिंग की तिथि को आगे बढ़ा दिया है। विभाग की और से आधिकारिक वेबसाइट http://mcc.nic.in पर विज्ञप्ति के द्वारा जानकारी डाली गयी है। काउन्सलिंग की नयी तारीखों की घोषणा जल्दी ही कर दी जाएगी।

इस वर्ष पोस्ट ग्रेजुएट मेडिकल पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए नीट परीक्षा 21 मई में ली गई है। इस परीक्षा का परिणाम 10 दिन के भीतर ही घोषित किया गया था। सामान्यतया नीट पीजी की परीक्षा जनवरी महीने में आयोजित होती है। परीक्षा परिणाम आने के साथ ही काउन्सलिंग प्रक्रिया करा ली जाती है। वर्ष 2021 की परीक्षा भी महामारी के कारण कई बार रद्द हुई थी और 11 सितम्बर को आयोजित हुई थी। इस वर्ष नीट पीजी की 52 हजार सीटों पर काउन्सलिंग होनी है।

काउन्सलिंग पोस्टपोन करने का कारण

MCC की ओर से जारी हुए नोटिस में इसके कारण को बताया है कि नेशनल मेडिकल कमिशन ने नये सत्र (session) की LOP (Letter of Permission) अभी तक जारी नहीं किया है। इसकी वजह से काउन्सलिंग की प्रक्रिया को आगे करना पड़ रहा है। उम्मीद है कि काउन्सलिंग की प्रक्रिया 15 सितम्बर के बाद ही शुरू हो पायेगी। नोटिस में एमसीसी द्वारा काउन्सलिंग की नयी तारीख की शीघ्र घोषणा की बात भी कही गयी है।

यह भी देंखे :- TANCET 2023 परीक्षा तिथियाँ जारी : 26 फरवरी को होगी MBA परीक्षा, यहाँ देखें पूरा शेड्यूल

मई में परीक्षा और जून में परिणाम

ध्यान रखें कि इस वर्ष नीट पीजी की परीक्षाएँ 31 मई में करवाई गयी थी। परीक्षा के परिणाम 20 जून में घोषित हुए थे। MCC की ओर से 1 सितम्बर के दिन काउन्सलिंग की बात कही गयी थी। चूँकि या एक अनिश्चित कार्यक्रम होता है। लेकिन अभी के लिए तारीखों को और आगे कर दिया गया है। फिलहाल तो नीट परीक्षा के अभ्यर्थियों को सलाह है कि वे काउन्सलिंग के अपडेट लेने के लिए विभाग की आधिकारिक वेबसाइट को देखते रहे।

सुप्रीम कोर्ट का दखलंदाजी से इंकार

सोमवार को नीट पीजी काउन्सलिंग के रोकने सम्बन्धी याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने इन मामले में दखल देने से मना किया है। कोर्ट की ओर से कहा गया है कि वो ना ही काउन्सलिंग प्रक्रिया में दखल देंगे और ना ही इस पर रोक लगाएंगे। चूँकि वे छात्रों का जीवन खतरे में नहीं डाल सकते है। इससे पहले दिल्ली हाई कोर्ट ने 29 जुलाई को तीन डॉक्टरों की एक जनहित याचिका को रद्द कर दिया था। यह याचिका नीट पीजी 2018 के रेगुलेशन 9(3) को ख़त्म करने के लिए थी।

नीट पीजी परीक्षा में विसंगतियाँ

इस वर्ष की नीट परीक्षा में सम्मिलित होने वाले अभ्यर्थियों के अंकों में बहुत सी विसंगतियां देखी गयी थी। छात्रों की माँग थी कि Answer-Key का पुनर्मूल्यांकन होना चाहिए और उन लोगों को अंसार-की को चुनौती देने का अधिकार मिलें। काउन्सलिंग प्रक्रिया के अंतर्गत आल इण्डिया कोटा (कुल सीटों की संख्या का 50 प्रतिशत), प्रदेश के मेडिकल और डेंटल संस्थानों, केंद्रीय और डीम्ड महाविद्यालयों में प्रवेश हेतु सीटों का आवंटन होता है।

इसी बीच नीट पीजी 2021 काउन्सलिंग के भाग के रूप में आयोजित एक अलग राउंड सहित 5 राउंड की काउन्सलिंग के बाद भी 1,456 सीटें रिक्त रह गयी। इस वर्ष 4 राउंड काउन्सलिंग करवाने की प्लानिंग है।

जल्द जारी होगा शेड्यूल

नीट पीजी की परीक्षा देने वाले अभ्यर्थी 1 जून से ही काउन्सलिंग के इंतज़ार में है। यद्यपि इनको अब और प्रतीक्षा नहीं करनी होगी। काउन्सलिंग की नयी तारीखों को जल्द ही घोषित कर दिया जायेगा। कॉउंसलिंग कार्यक्रम को देखने के लिए अधिकारिक वेबसाइट को देखते रहे।

सम्बंधित खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
विधवा पेंशन योजना 2022: Vidhwa Pension ऑनलाइन आवेदन New CDS of India Anil Chauhan: जानिए कौन हैं अनिल चौहान