न्यूज़

Kartavya Path: इतिहास में दर्ज हुआ राजपथ, नए रंग-रूप में तैयार कर्तव्य पथ का पीएम मोदी आज शाम करेंगे उद्घाटन

Kartavya Path: देश की राजधानी में विजय चौक और इंडिया गेट को जो सड़क जोड़ती है, वो बुधवार को इतिहास में दर्ज़ हो गई। लगभग 3.20 किमी लम्बाई का राजपथ नए रंग-रूप और नाम “कर्तव्य पथ” की तरह जाना जायेगा। पीएम मोदी शाम 7 बजे इसका उद्धघाटन करने वाले है।

अपने नए रूप में कर्तव्य पथ (Kartavya Path) के पास लाल ग्रेनाइड से लगभग 15.5 किमी लम्बाई का वॉकवे बनाया गया है। यहाँ 19 एकड़ के हिस्से में नहर का निर्माण किया गया है जिस पर 16 पुल बनाये गए है। स्टॉल के साथ दोनों ओर बैठने की भी व्यवस्था की गयी है।

पीएम करेंगे ‘नेताजी की प्रतिमा’ का अनावरण

पीएम नरेंद्र मोदी इंडिया गेट पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 28 फुट ऊँची मूर्ति का भी अनावरण करने वाले है। ग्रेनाइड पत्थर से बनी नेताजी की प्रतिमा का वजन 65 मीट्रिक टन है। इस प्रतिमा का अनावरण उसी जगह हो रहा है जहाँ इस वर्ष 23 जनवरी में नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण हुआ था।

यह भी पढ़ें :- कांग्रेस के भारत जोड़ो और नीतीश के दिल्ली दौरे के बीच क्या है BJP का ‘मिशन 2024’?

Kartavya Path की विशेषताएँ

  • लगभग 3 किमी लम्बे कर्तव्यपथ पर 4087 पेड़ लगे है। इसमें 114 आधुनिक इंडीकेटर्स लगे है।
  • इसका क्षेत्रफल 1,10,457 वर्ग मीटर है।
  • यहाँ पर 1490 मैनहोल, 4 पैदल यात्रा अंडरपास, 422 लाल ग्रेनाइड की बेंच है।
  • यहाँ पर लोगों की 1,125 गाड़ियों की क्षमता का पार्किंग लॉट बनाया गया है। इसके अतिरिक्त 35 बसों के लिए भी अलग पार्किंग स्पेस रखा गया है।
  • 74 हिस्टोरिकल लाइट पोल्स और चैन लिंक्स का नवीनीकरण हुआ है। इसके अलावा 900 से अधिक नए लाइट पोल्स लगवाए गए है।
  • इस पुरे क्षेत्र को सीसीटीवी से लैस किया गया है। इसके साथ ही लगभग 80 सेक्युरिटी गार्ड 24 घंटे तैनात रहेंगे।
  • सेंट्रल विस्टा एवेन्यू में 3.90 लाख वर्ग मीटर का Green Area है। यहाँ लोगों को चलकदमी करने के लिए 15.5 किमी का लम्बा रेड ग्रेनाइड से बने मार्ग की व्यवस्था है।

एनडीएमसी की बैठक से प्रस्ताव पारित

बुधवार को राजपथ और सेंट्रल विस्टा लॉन का नाम बदलकर ‘कर्तव्य पथ’ करने के सम्बद्ध में नगरपालिका परिषद, नई दिल्ली ने विशेष बैठक ली। इस बैठक में प्रस्ताव को सर्वसम्मति के साथ पारित किया गया। यहाँ केंद्र सरकार के बहुत से मंत्रालय और कार्यालय मौजूद है। नाम बदलने के सम्बन्ध में आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय ने एनडीएमसी को एक अनुरोध भेजा था।

NDMC ने लोकतान्त्रिक प्रणाली, सांस्कृतिक विरासत एवं सोशल वैल्यूज के अनुसार ही सर्वसम्मति से प्रस्ताव को पारित किया। इस सभी प्रयासों के पीछे पुरे क्षेत्र को गुलामी के इतिहास को बदलकर लोकतान्त्रिक देश के मूल्यों वाला बनाना है।

कर्तव्य पथ का निर्माण क्यों हुआ

  • कुछ समय से इस क्षेत्र में आने वाले लोगो से यातायात पर दबाव देखा जा रहा था।
  • यहाँ पर सार्वजानिक शौचालय, स्वच्छ जल, स्ट्रीट फर्नीचर एवं पार्किंग इत्यादि की सुविधाएँ नहीं थी।
  • अपर्याप्त साइनेज, पानी की सुविधा की खराबी एवं अव्यवस्थित पार्किंग की व्यवस्था थी।
  • गणतंत्र दिवस कार्यक्रम एवं अन्य प्रोग्राम्स होने पर सामान्य जन जीवन को कम प्रभावित करने की आवश्यकता होने लगी थी।

सम्बंधित खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button