न्यूज़

Jamm-Kashmir: नेशनल कांफ्रेंस के पार्टी चुनाव 5 दिसंबर को, उमर अब्दुल्ला हो सकते हैं अगले अध्यक्ष

नेशनल कॉन्फ्रेंस पार्टी के अध्यक्ष फारुख अब्दुल्ला ने अपनी पार्टी के पद से रिजाइन कर दिया है। उन्होंने पार्टी के कार्यकर्ताओं के बीच बात करते हुए अपनी ख़राब सेहत को इस कदम की वजह बताया। पार्टी के प्रवक्ता तनवीर सादिक ने भी फारुख के अध्यक्ष पद को छोड़ने की खबर की पुष्टि कर दी है। पार्टी की तरफ से 5 दिसम्बर के दिन पार्टी अध्यक्ष पद के चुनाव की बाते कही जा रही है।

जम्मू-कश्मीर में फारुख अब्दुल्ला ने नेशनल कांफ्रेंस (NC) पार्टी में अध्यक्ष पद से रिजाइन कर दिया है। इसके बाद पूरी सम्भावनाएँ है कि उनके पुत्र और नेता उमर अब्दुल्ला पार्टी में अध्यक्ष पद को सम्हाल सकते है। फारुख (Farooq Abdullah) ने अपने इस्तीफे के बाद ख़राब स्वास्थ्य को इस कदम का प्रमुख कारण बताया है। अब पार्टी की तरफ से अगले महीने की 5 तारीख यानी कि 5 दिसंबर में अध्यक्ष पद के लिए चुनाव करवाने की बाते कही गयी है। नेशनल कॉन्फ्रेंस पार्टी के प्रवक्ता की ओर से इस बात की जानकारी दी गयी है। NC पार्टी के शीर्ष नेता अपने-अपने क्षेत्रों के प्रभारियों को चुनावों के लिए तैयार रहने को कह रहे है।

NC के प्रवक्ता तनवीर सादिक (Tanveer Sadiq) ने बताया है कि पार्टी की ओर से जल्द ही अध्यक्ष पद के चुनाव को लेकर अधिसूचना जारी कर दी जाएगी। हालाँकि पार्टी के कारकर्ताओं के बीच अपने इस्तीफे की घोषणा करने के दौरान फारुख अब्दुल्ला की आँखे नम हो गयी थी। इसके बाद उन्होंने पार्टी के कार्यकर्ताओं को प्रदेश के घर-घर में पार्टी को पहुँचाने की बात भी कही। उनसे पहले उमर अब्दुल्ला को पार्टी के उपाध्यक्ष पद की जिम्मदारी मिली हुई थी। किन्तु आपने वाले दिसंबर महीने में पार्टी अध्यक्ष चुनाव होने तक उमर अब्दुल्ला (Omar Abdullah) ही पार्टी के अध्यक्ष बने रहेंगे।

फारुख ने श्रीनगर में पार्टी कार्यकर्ताओं से बात की

जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में NC के पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच भूतपूर्व सीएम फारुख अब्दुल्ला ने बताया कि अब उनकी हेल्थ साथ नहीं दे पा रही है। इस कारण से वे पार्टी की जिम्मदारी को सम्हालने के लिए उपर्युक्त नहीं है। इसके बाद पार्टी के प्रवक्ता तनवीर सादिक ने बताया कि फारुख अब्दुल्ला ने अपने पद को छोड़ दिया है। पार्टी कार्यकर्ताओं से मीटिंग के दौरान फारुख ने सभी पार्टी नेताओं को अपने-अपने क्षेत्रों के निवासियों तक पार्टी को मजबूत करने की बात कही। इसी समय पर ही उन्होंने पार्टी के पदाधिकारियों से उनके क्षेत्रों में हो रही गतिविधियों की सूचनाएँ ली।

फारुख कहते है – “हमारे कैडरों को प्रशासन एवं जनता के मध्य पुल के रूप में कार्य करना होगा। हमें अपने अधिकारों के लिए शांति से लड़ने के दौरान जन कल्याण पर भी ध्यान देना होगा। आपको जनता की परेशानी को दूर करने के लिए असाधारण सेवा देने की आवश्यकता है।”

फारुख अब्दुल्ला की गाडी पर हमला

पिछले शनिवार के दिन फारुख अब्दुल्ला के काफिले को श्रीनगर के नूरबाग क्षेत्र के निवासियों के विरोध का सामना करना पड़ा था। ख़बरों के अनुसार फारुख यहाँ पर एक परिवार से मिलने आये थे। इसके बाद आते समय वहाँ पर के शख्स ने उनकी गाडी पर अटैक किया। तभी प्रतिक्रिया दिखाते हुए अब्दुल्ला के सुरक्षा ऑफिसर्स ने उस आदमी को दबोच लिया। किन्तु इसके बाद उस व्यक्ति पर नरमी दिखाते हुए सिर्फ वार्निंग देने के बाद रिहा कर दिया। इसके बाद स्थानीय पुलिस की ओर से भी उस व्यक्ति पर कोई एक्शन नहीं लिया गया।

यह भी पढ़ें :- <strong>दिल्ली: MCD चुनाव की तारीखों का ऐलान, 4 दिसंबर को वोटिंग, 7 को आएंगे नतीजे</strong>

लखनऊ में अखिलेश से मिले थे

पिछले दिनों 13 नवंबर में फारुख अब्दुल्ला ने उत्तर प्रदेश के भूतपूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मीटिंग की थी। इस मीटिंग में उन्होंने उनके पिता एवं नेता मुलायम सिंह के देहांत पर अपनी संवेदनाएँ प्रकट की थी। इसके बाद उन्होंने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा था कि देश में 2024 के आम चुनावों में यह बात तय हो जाएगी कि इस देश में भाजपा-कॉंग्रेस के अतिरिक्त कोई अन्य बड़ी पार्टी भी है या फिर नहीं। तीसरे मोर्चे पर उठे प्रश्न पर वे कहते है ये बात तो समय आने पर मिल बैठकर करली जाएगी।

सम्बंधित खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Kartik Purnima 2022: कब है कार्तिक पूर्णिमा? यहां जानें सही डेट, JNVST Admission 2023: नवोदय विद्यालय कक्षा 6 के रजिस्ट्रेशन विधवा पेंशन योजना 2022: Vidhwa Pension ऑनलाइन आवेदन New CDS of India Anil Chauhan: जानिए कौन हैं अनिल चौहान