न्यूज़

Ghulam Nabi Azad Resigns: गुलाम नबी आजाद ने छोड़ी कांग्रेस, सोनिया गांधी को भेजा 5 पन्नों का इस्तीफा

कांग्रेस पार्टी के पुराने एवं वरिष्ठतम नेता गुलाम नबी आजाद (Ghulam Nabi Azad) ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। आजाद ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता और अन्य पदों से सेवानिवृत्ति ले ली है। आजाद से 5 पन्नों का इस्तीफा कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गाँधी को प्राप्त हुआ। उनके इस कदम से सोशल मिडिया और अन्य माध्यमों से प्रतिक्रिया आने का दौर भी शुरू हो चुका है। कुछ ख़बरों में आशंका जताई गयी है कि आजाद अपनी नयी पार्टी भी बना सकते है। वह बहुत लम्बे समय से कांग्रेस पार्टी से नाखुश थे।

कांग्रेस छोड़ने के कुछ घंटों के बाद ही आजाद को बीजेपी से जुड़ने का ऑफर मिल गया। हाल के दिनों में ही कांग्रेस पार्टी छोड़ने वाले एक नेता ने भाजपा में उनके स्वागत की बात कही है। इस प्रकार से आजाद के सियासी भविष्य को लेकर चर्चा एवं अनुमान लगाए जा रहे है। किन्तु आजाद की ओर से कोई भी प्रतिक्रिया नहीं आ रही है।

यह भी पढ़ें :- ‘ऑपरेशन लोटस’ फेल का दावा करने वाली AAP का कुछ विधायकों से कटा संपर्क, पार्टी ने भी माना

2 सालों में 5 दशक का रिश्ता ख़त्म

लम्बे समय से नाराजगी जाहिर कर रहे आजाद ने अपने 5 पन्नों के त्यागपत्र (resign) में जमकर नाराजगी दिखाई है। अपने पत्र में उन्होंने पार्टी में राहुल गाँधी के नेतृत्व क्षमता पर बातें लिखी है। कुछ समय पूर्व ही उन्होंने कांग्रेस की पोलिटिकल अफेयर्स कमेटी से भी रिजाइन कर दिया था।

आजाद लिखते है कि मैं 35 वर्षों तक देश के हर प्रदेश और केंद्र शासित राज्य में पार्टी का जनरल सेक्रेटरी इंचार्ज रहा और 90 प्रतिशत जगहों पर जीत मिली।

Ghulam Nabi Azad के इस्तीफे पर प्रतिक्रियाएँ

कांग्रेस के महासचिव जयराम रमेश ने ट्वीट में लिखा – एक व्यक्ति जिसके साथ कांग्रेस नेतृत्व द्वारा सबसे अधिक सम्मान के साथ व्यवहार किआ गया है। उसने अपने शातिर व्यक्तिगत हमलों से धोखा दिया है। जो उसके असली चरित्र को उजागर करता है।

कांग्रेस (कांग्रेस) ने आजाद के इस्तीफे को उनके राज्यसभा कार्यकाल का अंत बताया। आगे आरोप लगते हुए कहा कि इस विश्वासघात से उनके असली चरित्र का पता लगता है, उनका डीएनए ‘मोदी-फाइड’ है। पार्टी के मिडिया प्रभारी प्रमुख खेरा ने कहा – “जैसे ही आपका राज्यसभा का कार्यकाल समाप्त हुआ, अआप बेचैन हो गए। आप एक पल के लिए भी एक पद के बिना नहीं रह सकते थे।”

सम्बंधित खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button