दशहरा में पूजन-विधि एवं योग देखे, जीवन में चली आ रही समस्या के उपाय जाने

हर वर्ष अश्विन मास के शुल्क पक्ष की दशमी को दशहरा का पर्व मनाया जाता है। ये पर्व (Vijayadashami) बहुत से लोगो के जीवन में अंधरे से प्रकाश लाता है। अच्छाई की बुराई पर जीत ही ‘विजयदशमी’ कहलाती है। आज के दिन ही श्रीराम ने लंकापति रावण को मारकर लंका को जीत लिया था। एक अन्य कथा के अनुसार माँ दुर्गा ने राक्षस महिषासुर को मारा था।

विजयीदशमी के दिन शास्त्रों की पूजा करने का विधान रहा है। कई सालो से आज के दिन रावण, मेघनाद एवं कुम्भकरण को जलाने की परंपरा चली आ रही है। इस वर्ष 24 अक्टूबर को मनाए जाने वाले ‘दशहरा’ पर्व को लेकर सही महूर्त एवं योग को जानना जरुरी है।

रावण दहन का सही मुहूर्त जाने

इस वर्ष आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि यानी 23 अक्टूबर की साय 5:44 बजे से शुरुआत हो रही है किन्तु दशहरा का पर्व 24 अक्टूबर को ही मनने वाला है। इस बार के लिए रावण दहन के लिए शाम 5:43 बजे का समय तय हुआ है। रावण के दहन के लिए सर्वाधिक उपर्युक्त मुहूर्त साय 07:19 बजे से रात्रि 08:54 बजे का आ रहा है।

दशहरा पर पूजा की विधि

आज के दिन (Dussehra) पूजा करना काफी शुभ और मंगलदाई सिद्ध होता है। इसके लिए सबसे पहले तो पूजा की चौकी पर लाल रंग का वस्त्र बिछाकर इसके ऊपर श्रीराम एवं माता दुर्गा की मूर्ति की स्थापना करें। फिर हल्दी से पीले किये हुए चावलों को स्वास्तिक की आकृति में पर श्रीगणेश जी की स्थापना कर दें। नौ ग्रहो को भी स्थापित करें।

अपने इष्ट देवी या देवता को स्थान देते हुए उनका भी पूजन करें। भगवान के सामने लाल फूल चढ़ाए, गुड़ से तैयार पकवान का भोग भी लगाए। अब अपनी इच्छानुसार दान-दक्षिणा को दे एवं निर्धनों को खाना भी दे सकते है। धर्म की ध्वजा की तरह से विजय पताका को भी अपने पूजन स्थल पर स्थापित कर सकते है।

दशहरा पूजन का महत्व

इस दिन के पर्व का महत्व भी जान लेना चाहिए चूँकि यह काफी महत्वपूर्ण दिन है। विजयादशमी को लेकर दो कहानी आदि काल से ही काफी प्रचलित रही है। पहली के अनुसार आज के दिन ही श्रीराम ने लंका के राजा रावण का वध करते हुए धर्म पताका पहराई थी। आज के दिन के ठीक 20 दिन बाद ही दीपावली का पर्व आता है।

इसकी वजह है कि दीपावली वाले दिन ही श्रीराम पूरे 14 वर्षो का वनवास करने के बाद माँ सीता के साथ अयोध्या लौठे हे। विजयदशमी को लेकर एक दूसरी कहानी भी काफी महत्व रखती है। जिसके अनुसार माँ दुर्गा देवी ने 10 दिनों तक युद्ध करने के बाद राक्षस महिषासुर को मार दिया था। कुछ लोगो के अनुसार इसी दिन से विजयादशमी मनाई जा रही है।

यह भी पढ़ें :- राजस्थान चुनाव में बीजेपी सीईसी मीटिंग में 84 उम्मीदवारों के नाम फाइनल, आज आ सकती है दूसरी लिस्ट

दशहरा पर फलदायी उपाय जाने

  • काम-नौकरी का उपाय – जिनको भी अपने काम एवं जॉब में दिक्क़ते आ रही है वे आज के दिन ‘ॐ विजयायै नमः’ मन्त्र का जप करें। जप के बाद माँ दुर्गा को 10 फल भी चढ़ाए। ये सभी फल जररतमंदो में बटकर अपने दुखो का अंत करें।
  • सुख-समृद्धि के उपाय – ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक आज के दिन साय में माँ लक्ष्मी का पूजन करने के बाद मंदिर में झाड़ू दान कर आए। इसके बाद जीवन में पैसा एवं समृद्धि बढ़ने लगेंगे।
  • आर्थिक परेशानी के उपाय – आज के दिन शमी के वृक्ष के नीच दिया जलाने से सौभाग्य का उदय होगा। जो भी लोग आर्थिक क्षेत्र में दिक्कतों का सामना कर रहे है तो वे इससे निजात पाने में इस उपाय को कर सकते है। इसके अलावा आज के दिन सुन्दरकाण्ड का पाठ करके भी जीवन के विभिन्न कष्टों से मुक्ति पा सकते है।

Leave a Comment

बालों के लिए अंडा एक बहुत फायदेमंद चीज है, इसे हेयर मास्क बनाकर इस्तेमाल करें। यहां जानें इस मास्क के फायदे। सर्दियों में ऐसे करें मेकअप, पार्टी में सभी की नजरें सिर्फ आप पर होंगी। यदि आप भी अपने WiFi का पासवर्ड भूल जाते हैं, तो तुरंत इसे कैसे पता करें, यहां जानें। रोज सुबह उठकर करें ये 4 काम, दिल और दिमाग दोनों रहेंगे स्वस्थ अगर आपका इंस्टाग्राम अकाउंट उर्फी जावेद की तरह सस्पेंड जो जाता है तो यहां जानें कि आप अपना अकाउंट कैसे रिकवर कर सकते हैं। क्या पति और पत्नी दोनों पीएम किसान सम्मान निधि योजना के लाभ के लिए पात्र हैं? इस योजना के नियमों के बारे में जानिए। अगर आप भी Free Movie Ticket प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप भी BookMyShow में ऐसे टिकट बुक करें। यहां जानें पूरी जानकारी सर्दियों में इन 5 खास चीजों को खाएं, ताकि शरीर गर्म रहे।