न्यूज़

यूपी के अमित निरंजन को मिल सकता है पद्म श्री पुरस्कार, कुल 6 विषयों में कर चुके हैं NET क्वालीफाई

Amit Kumar Niranjan: आज हम बात करने जा रहे हैं उत्तर प्रदेश के कानपुर में रहने वाले “अमित कुमार निरंजन” की जिनकी खासियत और काबिलियत को भारत सरकार द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में किए है उत्कृष्ट कार्यों के लिए पद्म श्री पुरस्कार 2023 के लिए नामांकित किया गया है। बता दें अमित कुमार ने पूरे देश में शिक्षा के क्षेत्र में विकास के लिए 2 लाख से अधिक छात्रों को प्रेरित किया है और साथ ही अपना परामर्श भी दिया है। चलिए जानते हैं अमित कुमार को किस लिए दिया जाने वाला है पद्म श्री और उनके विषय में पूरी जानकारी।

अमित कर चुके हैं 25000 से अधिक शिक्षकों को प्रशिक्षित

बता दें कानपुर के अमित रंजन जिन्हे भारत सरकार ने पदम श्री के लिए नामांकित किया है इन्होने देश में छात्रों को शिक्षा में प्रेरित करने के साथ-साथ 25,000 से अधिक शिक्षकों को प्रशिक्षित भी किया है। शिक्षा के क्षेत्र में किया गया यह कार्य बिना किसी समर्थ और व्यवसायिक बर्बादी के एक नौजवान द्वारा किया गया एक बेहद ही असाधारण काम है, इसके लिए ही उन्हें पद्म श्री पुरस्कार 2023 के लिए नामांकित किया गया है।

अमित बताते हैं की वह लगातार कई सालों से बच्चों के विकास के लिए पब्लिकेशन का कार्य कर रहे हैं, वह देश भर के कई छात्रों को अब तक फ्री में शिक्षा भी दे चुकें हैं, इसके साथ ही बिना कोचिंग के कैसे सफलता प्राप्त करें वह उस स्ट्रैटेजी पर भी काम करते हैं, अमित उन बच्चों को भी फ्री स्टडी मेटीरियल बाटते हैं जो बच्चे अपने संबंधित विषय की किताबे खरीदने में असमर्थ रहते है। वह स्कूलों को एक हैप्पी प्लेस बनाने के कार्य में जुटे हुए हैं, जिसके लिए वह शिक्षकों को ट्रेनिंग देने के साथ बच्चों के करियर काउंसलिंग पर भी काम करते है।

UPRVUNL Recruitment 2022: यूपी के बिजली विभाग में निकली नौकरी, बस इतनी मांगी है पढ़ाई, आवेदन फीस 12 रूपये

6 विषयों में कर चुके हैं NET क्वालीफाई

बता दें अमित कुमार रंजन के बारे में तो इन्होने 8 सब्जेक्ट में मास्टर्स डिग्री हासिल की है, इसके साथ बता दें की 37 साल के अमित ने 6 अलग-अलग विषयों में यूजीसी की राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (NET) का एग्जाम क्वालीफाई किया है, इस उपलब्धि के लिए 2021 में इनका नाम इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड्स में शामिल किया गया है। उन्होंने साल 2010 में कॉमर्स और उसी साला को इकोनॉमिक्स, साल 2012 में मैनेजमेंट, इसके बाद साल 2015 में एजुकेशन, साल 2019 में पोलिटिकल साइंस के साथ साल 2020 में सोशियोलॉजी में नेट एग्जाम क्लीयर किया है,

इसके अलावा 2015 में IIT कानपुर से इकोनॉमिक्स में उन्होंने पीएचडी कम्प्लीट की थी, फिलहाल वे इस वक्त छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय, कानपुर (CSJMU, Kanpur) से शिक्षा की गुणवत्ता के विकास से संबंधित विषय में पीएचडी कर रहे हैं।

इन रिकार्ड्स में दर्ज करवा चुके हैं अपना नाम

अमित कुमार के रिकार्ड्स की बात करें तो 6 विषयों में यूजीसी नेट का एग्जाम क्वालीफाई करने के लिए उनका नाम इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड्स में पहले ही शामिल किया जा चुका है, इसके अलावा पिछले 18 सालों से वह इंडियन एजुकेशन सिस्टम को बेहतर बनाने के लिए काम कर रहे हैं, जिसमे बेहद ही बेहतर कार्य करने के लिए इस साल उनका नाम वर्ल्डवाइड बुक ऑफ रिकार्ड्स में भी शामिल किया जा चुका है।

सम्बंधित खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button