एजुकेशन

Adar Poonawalla Biography in Hindi | अदार पूनावाला जीवन परिचय

अदार पूनावाला को सार्वजानिक स्वास्थ्य के लिए कई बार पुरस्कृत किया जा चुका है। साल 2017 में पूनावाला को हॉल ऑफ फेम में हुमेनिटेरियन एडवेयर अवार्ड मिला है।

इस समय अदार पूनावाला को देश में ‘वैक्सीन किंग’ के नाम से पुकारा जा रहा है। अदार पूनावाला (Adar Poonawalla) इस समय वैक्सीन का निर्माण करने वाली कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट के सदस्य है। कोरोना वायरस से जुडी वैक्सीन का निर्माण करने के बाद से ही अदार सर्वाधिक चर्चा का विषय बने हुए है। इस समय देश में दो प्रकार की वैक्सीनों का निर्माण हो रहा है। इनमे से एक अदार पूनावाला के सीरम इंस्टिट्यूट में बनाई गयी है। कोरोना संक्रमण के बाद सीरम इंस्टिट्यूट का नाम लोगो के बीच आने लगा।

वे कहते है कि उनकी बनाई वैक्सीन में 50 प्रतिशत हिस्सा देश के लिए ही होगा। सीरम संस्थान की शुरुआत मात्र 5 लाख रुपयों से हुई थी जो आज अरबो रुपयों तक पहुँच गयी है। सीरम इंस्टिट्यूट 100 एकड़ के एरिये में फैला हुआ है। अदार दुनिया के अमीर लोगों की सूची में 165वें नंबर पर आते है। और वे भारत के 6वें सबसे अमीर व्यक्ति है। साल 2015 में पूनावाला ने सागर के किनारे पर एक घर ख़रीदा था ये घर पहले अमेरिकी वाणिज्यिक दूतावास था। उस समय पर इस मकान की कीमत 11 करोड़ डॉलर्स थी।

अदार पूनावाला का प्रारंभिक जीवन और शिक्षा

अदार पूनावाला का जन्म 14 जनवरी 1981 के दिन पुणे, महाराष्ट्र के सुशिक्षित फारसी परिवार में हुआ था। पूनावाला की स्कूली शिक्षा बिशप पुणे, सेंट एडमंड स्कूल केंटबरी से हुई। इसके बाद इन्होने यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्टमिनिस्टर लंदन से स्नातक (Graduate) की डिग्री प्राप्त की। साल 2001 में अपनी ग्रेजुएशन करने के बाद पूनावाला ने सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इण्डिया में नियुक्ति ली। साल 2011 में ये सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इण्डिया के CEO बन गए।

यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्टमिनिस्टर को लेकर वे कहते है – “यहाँ मेरी यादें एक अच्छे सीखने के माहौल और कल्चर की है। जिसने मुझको टीम को बनाना और साथियों से संवाद करना सिखाया है। कुल मिलाकर ये एक महान सीखने का अनुभव, इसके लिए मैं सदा ख़ुशी और आभार महसूस करता हूँ।”

अदार ने हमेशा शानोशौकत की जीवन शैली को अपनाया है। वे हेलीकाप्टर से अपने ऑफिस भी जाया करते है। इसके साथ ही उनके पास अपना निजी जेट विमान भी है। वे कारो का भी शौक रखते है इसलिए उनके पास 35 क्लासिकल कारों का अच्छा-ख़ासा कलेक्शन है।

अदार पूनावाला का परिवार

अदार की शादी नताशा पूनावाला से हुई है। साल 2001 में नए साल की पार्टी के दौरान दोनों की मुलाकात हुई थी। इसके कुछ ही समय के बाद दोनों ने शादी करने का फैसला किया। इनके परिवार में दो बच्चे भी है – डेरियस पूनावाला और सायरस पूनावाला। इस समय नताशा पूनावाला सीरम इंस्टिट्यूट में एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर है। साथ ही वो विल्लो पूनावाला फाउंडेशन की अध्यक्षा भी है। नताशा की कुछ खास हिंदी फिल्म कलाकारो से भी मित्रता है, इनमे से प्रमुख नाम है – प्रियंका चोपड़ा, निक जोन्स आदि है।

पूनावाला की सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इण्डिया दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन उत्पादन कंपनी है। ये बहुत प्रकार की वैक्सीनों को बनाने का काम करते है। इस समय भी कोरोना वायरस के लिए वैक्सीन इसी कंपनी ने बनाई है।

सीरम इंस्टिट्यूट के सीईओ के रूप में

सीरम इंस्टिट्यूट में काम शुरू करने के बाद से ही अदार पूनावाला ने अपनी कंपनी के उत्पाद को करीबन 140 देशों में पहुंचाने का काम किया और इस कारण से उनकी कंपनी का लगभग 85 प्रतिशत राजस्व विदेशों से आना शुरू हुआ। इसके साथ ही इन्होने कंपनी (Serum Institute) के दैनिक कार्यों में भागीदारी शुरू कर दी। और अपनी प्रतिभा से वे कंपनी के CEO पद पर पहुँच गए। साल 2012 में उनकी कंपनी ने नीदरलैंड की एक सरकारी कंपनी बिल्थोवेल बायोलॉजिकल्स का अधिग्रहण (Acquisition) कर लिया। इसी प्रकार से साल 2017 में प्राहा वैक्सीन लिमिटेड का अधिग्रहण कर लिया।

साल 2017 में सीरम कंपनी ने पोलियो के लिए वैक्सीन ओरल पोलियो वैक्सीन (Oral Polio Vaccine) का निर्माण शुरू किया था। यह उत्पाद कंपनी का बेस्ट सेलिंग उत्पाद बन गया। रिपोेर्ट के मुताबक उन्होंने अपनी कंपनी के उत्पादों में विस्तार करते हुए डेंगू, फ्लू और सर्वाइकल कैंसर के टीकों को बनाना भी शुरू किया। इस समय भी अपनी कंपनी के सीईओ के रूप में काम करते हुए वे कंपनी के उत्पादों का विस्तार करने में लगे हुए है।

पूनावाला ने अपने इंस्टिट्यूट में हमारे देश के पीएम नरेंद्र मोदी को भी बुलाया था और उनको अपने यहाँ के वैक्सीन निर्माण कार्यों से परिचित करवाया था।

यह भी पढ़ें :- IAS Athar Amir Khan: जानिए कौन हैं डॉ. मेहरीन काजी, जिनको दिल दे बैठे टीना डाबी के पूर्व पति अतहर

परिवार ने घोड़ो के व्यापार शुरू किया

ऐसी धारणा है कि पूनावाला परिवार 19वीं सदी में ब्रिटिश दौर में भारत के पुणे शहर में आकर बसे थे। ये फारसी परिवार अंग्रेजो ने शासन में दोर्णा भारत में आकर रहने लगा था। आजादी से पहले इनका परिवार कंस्ट्रशन कारोबार से जुड़ा था। किन्तु इनके परिवार को सर्वाधिक लाभ घोड़ों के बिज़नेस में हुआ था। लोगों के बीच आजतक भी यह परिवार घोड़ो के व्यापार करने को लेकर प्रसिद्ध है। इनके दादाजी ने ने घोड़ों के व्यवसाय की शुरुआत की थी। ये बहुत सी नस्लों के रेस वाले घोड़े खरीदते और बेचते थे। इस तरह से इनके परिवार का व्यवसाय में एक लम्बा अनुभव है।

अदार पूनावाला को मिले पुरस्कार

  • अदार पूनावाला को सार्वजानिक स्वास्थ्य के लिए कई बार पुरस्कृत किया जा चुका है। साल 2017 में पूनावाला को हॉल ऑफ फेम में हुमेनिटेरियन एडवेयर अवार्ड मिला है। ये पुरस्कार उनके स्वास्थ्य योजनाओं में उत्कृष्ट भागीदारी के लिए दिया गया है। साल 2019 में CNN के न्यूज़-18 ने NEWS CSR की बिज़नेस केटेगरी के अंतर्गत इंडियन ऑफ द ईयर तरह सम्मान दिया गया।
  • साल 2018 में महाराष्ट्र के भूतपूर्व सीएम देवेंद्र फड़नवीस ने उनको एच महाराष्ट्र अचीवर्स अवार्ड समारोह में सबसे अच्छे बिज़नेस को मिलने वाले पुरस्कार ‘बिज़नेस लीडर ऑफ द ईयर’ के लिए चुना गया।

अदार पूनावाला से जुड़े रोचक तथ्य

  • अदार पूनावाला विश्व प्रसिद्ध भारतीय मिलिनियर बिज़नेस टायकून है जो दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन उत्पादक (विश्वभर में बिकने वाली डोज़ की संख्या को लेकर) सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इण्डिया के सीईओ और मालिक है। इस कंपनी की स्थापना इनके पिताजी सायरस पूनावाला के द्वारा साल 1966 में हुई थी।
  • पूनावाला ने लंदन में दस साल बिताने के साथ ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त की। इसके बाद साल 2002 में टीके निर्माण के अपने पारिवारिक बिज़नेस के लिए भारत लौट आये।
  • इस कंपनी में इन्होने अपने पिताजी की ही गाइडेंस में कार्य को सीखा। इसके बाद साल 2005 में सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इण्डिया के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर का भी हिस्सा बने।
  • साल 2011 में अदार ने सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इण्डिया में सीईओ पद को सम्हाला।
  • साल 2017 में सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इण्डिया को विश्व में खुराक की संख्या के हिसाब से सबसे बड़ी वैक्सीन निर्माता कंपनी हो गई। ये कम्पनी खसरा, पोलियो, फ्लू आदि रोगों के लिए करीबन 1.5 बिलियन टीकों का निर्माण करती है।
  • पुनावाला के कंपनी को सम्हालते ही अच्छी वृद्धि देखने को मिली है। जो साल 2005 में केवल 35 देशों में आपूर्ति करने के बाद साल 2020 में 145 देशों से अधिक में आपूर्ति करने लगी।
  • पूनावाला की माताजी (विल्लू पूनावाला) भी एक परोपकारी महिला थी। साल 2010 में इनका देहांत हो जाने पर अदार ने कार्य को सम्हालते हुए साल 2012 में अपनी माँ को सपर्पित करते हुए ‘विल्लू पूनावाला फाउंडेशन’ को शुरू किया।

सम्बंधित खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
सिंगर जुबिन नौटियाल का हुआ एक्सीडेंट, पसली और सिर में आई गंभीर आई Jubin Nautiyal Accident Salman Khan Ex-Girlfriend Somy Ali :- Salman Khan पर Ex गर्लफ्रेंड सोमी अली ने लगाए गंभीर आरोप इन गलतियों की वजह से अटक जाती है PM Kisan Yojana की राशि, घर बैठें कराएं सही Mia Khalifa होंगी Bigg Boss की पहली वाइल्ड कार्ड कंटेस्टेंट Facebook पर ये पोस्ट करना पहुंचा देगा सीधे जेल!