न्यूज़

सिद्धू की जिंदगी के वो आखिरी पल, जिसमें दुनिया को कह दिया अलविदा

कार में सिद्धू के साथ उसके दो दोस्त भी थे, जिन्होंने सिद्धू की जिंदगी के आखिरी पल बताए। सिद्धू मूसेवाला की 29 मई को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उस वक्त उनके साथ थार कार में उनके दोस्त गुरवेंद्र सिंह भी थे। हमले में वे भी बुरी तरह घायल हो गए। उन्होंने पुरी का हादसा अपनी आंखों से देखा था।

क्यों गए थे सिद्धू गांव से बाहर

सिद्धू मूसेवाला
सिद्धू मूसेवाला

 

गुरविंदर ने बताया कि जब उन पर हमला हुआ तो सिद्धू ने भी फायरिंग की, लेकिन उन पर हमला इतना बड़ा था कि वह इसका सामना नहीं कर सके. बीएमसी एडमिट में गुरुविंदर ने आगे बताया कि सिद्धू और उसका दोस्त सिद्धू सिद्धू की मौसी के बारे में पूछने के लिए गांव से निकले थे. और जैसे ही वह मनसा के गाँव जवाहर के गाँव गया, उस पर हमला कर उसकी जान ले ली।

 

क्यों नहीं गए अंगरक्षक साथ

सिद्धू मूसेवाला
सिद्धू मूसेवाला

 

गुरविंदर ने बताया कि उनकी कार में पांच लोगों के बैठने की जगह नहीं थी इसलिए वह अपने साथ दो बॉडीगार्ड भी नहीं ले गए. उन्होंने बताया कि गांव से निकलते ही उनकी थार पर पीछे से फायरिंग भी हुई थी. और अचानक उनकी थार के सामने एक कार रुक गई. जिसमें से एक व्यक्ति ने बाहर आकर गोलियां चला दीं

 

भागने में कामयाब क्यों नहीं हुए सिद्धू

गुरविंदर ने बताया कि हमलावरों के पास ऑटोमैटिक फायरिंग गन थी, जो लगातार फायरिंग कर रही थी. इसके बाद सिद्धू ने दो गोलियां चलाईं और उसके बाद कार पर तीनों तरफ से फायरिंग शुरू कर दी। सिद्धू ने भी कार से भागने की कोशिश की लेकिन असफल रहे। इससे इसकी मौत हो गई।

सम्बंधित खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
विधवा पेंशन योजना 2022: Vidhwa Pension ऑनलाइन आवेदन New CDS of India Anil Chauhan: जानिए कौन हैं अनिल चौहान